ग्रेटर दिल्ली के लिए ढूंढा जाना चाहिए एक और एयरपोर्ट का विकल्प

23 views
Skip to first unread message

raj yadav

unread,
Dec 27, 2009, 9:16:54 PM12/27/09
to YEIDA
ग्रेटर दिल्ली के लिए ढूंढा जाना चाहिए एक और एयरपोर्ट का विकल्प
28 Dec 2009, 0019 hrs IST,नवभारत टाइम्स
प्रिन्ट ईमेल Discuss शेयर सेव कमेन्ट टेक्स्ट:
नगर संवाददाता
नई दिल्ली ।। ग्रेटर दिल्ली बनने के बाद आईजीआई एयरपोर्ट के अलावा एक और
एयरपोर्ट बन जाए तो इसका लोगों को बहुत

फायदा मिलेगा। हालांकि, ग्रेटर नोएडा के जेवर में इंटरनैशनल एयरपोर्ट
बनाने की बात कही जा रही है, मगर यह मसला फिलहाल गुप ऑफ मिनिस्टर्स के
यहां विचाराधीन चल रहा है।

मौजूदा समय में आईजीआई एयरपोर्ट से प्रतिदिन तकरीबन 70 हजार यात्री आते-
जाते हैं। इनमें से करीब 40 हजार यात्री घरेलू होते हैं और 30 हजार
इंटरनैशनल। ऐसे में यदि जेवर में इंटरनैशनल एयरपोर्ट बन जाता है तो इस
कैटेगिरी के यात्रियों को बेहद फायदा पहुंचेगा। देखा जाए तो यह लाजमी भी
है, क्योंकि जिस तरह से नोएडा और ग्रेटर नोएडा तरक्की कर रहा है उस हिसाब
से उस इलाके के लोगों को उन्हीं के इलाके में एयरपोर्ट की सुविधा मिलनी
चाहिए। जानकारों का कहना है कि अभी इस मामले में विचार किया जा रहा है।

इधर, आईजीआई एयरपोर्ट के अधिकारियों का भी कहना है कि जेवर एयरपोर्ट के
बनने से लोगों को काफी फायदा मिलेगा। अभी तक उस इलाके के लोगों को यदि
इंटरनैशनल फ्लाइट से आना जाना होता है तो उन्हें दिल्ली का ही रुख करना
पड़ता है। ऐसे में यहां भीड़ तो अधिक होती ही है साथ ही लोगों को भी
परेशानी होती है।

अधिकारी ने बताया कि अगले साल तक आईजीआई एयरपोर्ट की यात्री क्षमता
मौजूदा करीब 26 मिलियन यात्रियों से बढ़कर 60 मिलियन हो जाएगी। एयरपोर्ट
का आधुनिकीकरण इस तरह से किया जा रहा है ताकि 2026 तक भी यात्रियों को
कोई परेशानी न हो। मगर यह पिक्चर का वह पहलू है जिसमें दिल्ली एयरपोर्ट
का हित छिपा हुआ है, लेकिन यात्रियों की सुविधा की बात की जाए तो जेवर
एयरपोर्ट का निर्माण होना जरूरी है। फिलहाल वहां यूपी सरकार ने जमीन का
अधिग्रहण करने सहित अन्य सभी औपचारिकताएं तो पूरी कर ली हैं, बस इंतजार
है तो केंद सरकार के ग्रीन सिग्नल मिलने का।

Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages