वंचना और वंचित होना

329 views
Skip to first unread message

आराधना चतुर्वेदी "मुक्ति"

unread,
Oct 9, 2010, 11:05:20 AM10/9/10
to shabdc...@googlegroups.com
वंचना का सही अर्थ क्या है? वंचित होना से ये किस तरह अलग है?

--
http://feministpoems.blogspot.com
http://feminist-poems-articles.blogspot.com
http://draradhana.wordpress.com

Baljit Basi

unread,
Oct 9, 2010, 11:23:47 AM10/9/10
to शब्द चर्चा
किसी को ठगना, धोखा देना. ऐसी प्रक्रिया में किसी से कुछ छीन लेने का
भाव तो है ही जो वंचित होना में है. वंचित मतलब छीन लिया गया.
बलजीत बासी


On 9 अक्तू, 11:05, आराधना चतुर्वेदी "मुक्ति" <guddubharg...@gmail.com>
wrote:
> *वंचना *का सही अर्थ क्या है? *वंचित होना* से ये किस तरह अलग है?
>
> --http://feministpoems.blogspot.comhttp://feminist-poems-articles.blogspot.comhttp://draradhana.wordpress.com

ई-स्वामी

unread,
Oct 9, 2010, 11:30:59 AM10/9/10
to shabdc...@googlegroups.com
प्रवंचना भी तो यही होता है! है ना?

2010/10/9 Baljit Basi <balji...@yahoo.com>



--
http://hindini.com
http://hindini.com/eswami

आराधना चतुर्वेदी "मुक्ति"

unread,
Oct 9, 2010, 11:34:24 AM10/9/10
to shabdc...@googlegroups.com
वही तो भ्रम है प्रवंचना और वंचना में ...

2010/10/9 ई-स्वामी <esw...@gmail.com>

ashutosh kumar

unread,
Oct 9, 2010, 10:58:17 PM10/9/10
to shabdc...@googlegroups.com
वंचित
होना
   - जायज  हक़  से  महरूम  होना .
वंचना - महरूमियत 

Abhay Tiwari

unread,
Oct 9, 2010, 11:19:39 PM10/9/10
to shabdc...@googlegroups.com
वञ्च धातु का एक अर्थ है चुपचाप खिसक जाना और दूसरा अर्थ है ठगना, धोखा देना। मेरे विचार से हिन्दी की क्रिया 'बचना' पहले अर्थ को ही पकड़ती है जबकि वंचना और वञ्चित करना  जैसे शब्दों का प्रयोग दूसरे अर्थ  में होता है। वंचना और प्रवंचना में कोई विशेष अर्थ तो नहीं है। 'प्र' उपसर्ग का प्रयोग धातु के हेतु पर ज़ोर देने के ही अर्थ में होता है, जैसे बल और प्रबल, काश और प्रकाश, गति और प्रगति, ख्यात और प्रख्यात। कालान्तर में होता यूँ है कि इन में से कोई एक शब्द किसी एक विशेष अर्थ में रूढ़ हो जाता है जैसे कि प्रगति और प्रकाश के मामले में है। शायद प्रवंचना के साथ ऐसा नहीं हुआ.. और हुआ है तो मेरी जानकारी में नहीं है।  
Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages