अतरंगी

842 views
Skip to first unread message

अभय तिवारी

unread,
Jul 17, 2016, 1:18:32 AM7/17/16
to शब्द चर्चा
तमाम शब्दकोषों में इस अतरंगी शब्द की प्रविष्टि नहीं मिलती। 

निश्चित ही नया शब्द है। लोग बताएं- कहाँ से आया.. क्या क्या अर्थ और भाव अपने भीतर समेटे हैं। 

कुछ सम्भावनाएं: 

अ+ तरंगी 
अति+ रंगी 
अति+अरंगी= अत्यरंगी= अतरंगी 
अ+तुरंगी = घोड़ा विहीन= सवारी विहीन = ? 

चर्चा हो! 

सृजन शिल्पी Srijan Shilpi

unread,
Jul 17, 2016, 1:24:22 AM7/17/16
to शब्द चर्चा

वाह, अ+तरंगी तो कमाल का शब्द है। किसी नायाब रत्न की तरह। बहुत दिनों से तलाश थी।

पता नहीं, मौजूदा प्रसंग में यह सटीक है या नहीं, पर समाधि की स्थिति को ध्वनित करने के लिए सार्थक शब्द है।


--
You received this message because you are subscribed to the Google Groups "शब्द चर्चा " group.
To unsubscribe from this group and stop receiving emails from it, send an email to shabdcharcha...@googlegroups.com.
For more options, visit https://groups.google.com/d/optout.

ashutosh kumar

unread,
Jul 17, 2016, 2:15:23 AM7/17/16
to शब्द चर्चा
कहाँ  मिला  ? किस सन्दर्भ  में  ?  

Abhay Tiwari

unread,
Jul 17, 2016, 2:30:27 AM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com
मुम्बई में आम चलन में है। 

आम तौर पर किसी अनोखी शै को अतरंगी कहते हैं। कुछ गानों में भी आया है। 

lalit sati

unread,
Jul 17, 2016, 2:50:11 AM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com
मराठी शब्द हो सकता है यह।

हिंदी शब्दसागर में अतरंग के बारे में यह दिया है -  अतरंग संज्ञा पुं० [देश०] लंगर को जमीन से उखाड़कर उठाए रखने की क्रिया ।

2016-07-17 11:45 GMT+05:30 ashutosh kumar <ashuv...@gmail.com>:

Narayan Prasad

unread,
Jul 17, 2016, 3:24:36 AM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com
<<मराठी शब्द हो सकता है यह।>>

महाराष्ट्र राष्ट्रभाषा सभा, पुणे, द्वारा प्रकाशित "बृहत् मराठी-हिंदी शब्दकोश" में तो यह नहीं है ।

Bodhi Sattva

unread,
Jul 17, 2016, 5:48:44 AM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com
मुंबई में 
अस्थिर..लगभग सनकी आदमी के लिए अतरंगी शब्द का प्रयोग होता है
वह अतरंगी है टेढ़ा है झक्की है या रंगीला है...के करीब लगता है मुझे
Dr. Bodhisattva, mumbai
0-9820212573

Vinod Sharma

unread,
Jul 17, 2016, 6:54:10 AM7/17/16
to shabdcharcha
1.  The word Atrangi is used in India meaning 'extraordinary'
2, फिल्म वजीर का गाना 
लगी मुझको तेरी बीमारी
इस बेढंगी दुनिया के संगी
हम ना होते यारा
अपनी तो यारी अतरंगी है रे
अतरंगी रे  (Here it means "colourful")

3. फिल्म वजीर के नायक अमिताभ बच्चन ने ट्विटर पर इसका अर्थ समझाया है:  
मन और तन का तरंग



Vinod Sharma

unread,
Jul 17, 2016, 6:57:02 AM7/17/16
to shabdcharcha
मुझे भी लगता है कि यह शब्द
अति+रंगी से बना है अतिरंगी या अतरंगी
अर्थ- अत्यधिक रंगीन

दिनेशराय द्विवेदी

unread,
Jul 17, 2016, 10:48:20 AM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com
विजया सेवन के उपरान्त भी कोई अतरंगी रह जाए, यह असंभव है।


2016-07-17 15:18 GMT+05:30 Bodhi Sattva <abo...@gmail.com>:



--
दिनेशराय द्विवेदी, कोटा, राजस्थान, भारत
Dineshrai Dwivedi, Kota, Rajasthan,
क्लिक करें, ब्लाग पढ़ें ...  अनवरत    तीसरा खंबा

Madhusudan H Jhaveri

unread,
Jul 17, 2016, 12:52:22 PM7/17/16
to shabdc...@googlegroups.com


अतरंग बृहद्‍ गुजराती कोश में है।
अतरंग= (मोजा विनानु,तोफान विनानुं)
अर्थात--बिना लहरका,तुफान बिना का।


[पृष्ठ ४०--गुजराती कोश भाग (१)] 
------------------------------------
डॉ. मधुसूदन (हिन्दी रत्न सम्मानित) 
University of Massachusetts.
दिनेशराय द्विवेदी,कोटा, राजस्थान, भारत
Dineshrai Dwivedi, Kota, Rajasthan,
क्लिक करें, ब्लाग पढ़ें ...  अनवरत    तीसरा खंबा

Sandeep Tiwari

unread,
Jul 17, 2016, 4:08:41 PM7/17/16
to shabdcharcha

मैं हिंदी का कोई बहुत बड़ा जानकार तो नहीं पर अतरंगी शब्द हमारे यहाँ बोल चाल में एक सामान्य रूप से प्रयोग निम्न भावों या अर्थो में किया जाता है.

1. चित्रकारी में रंगों के बिना सूझबूझ के किया गया प्रयोग. (बेढ़गा के समतुल्य )

2. व्यक्ति के स्वभाव में बिना किसी कारण या तारतम्य के दिखाई देने वाले परिवर्तन
उदाहरण. किसी भी स्त्री का मूल स्वभाव अतरंगी ही होता है.


17-07-2016 10:22 pm को "Madhusudan H Jhaveri" <mjha...@umassd.edu> ने लिखा:

Bodhi Sattva

unread,
Jul 18, 2016, 2:17:39 AM7/18/16
to shabdc...@googlegroups.com
मैंने भी अतरंगी को इसी अर्थ में लिया है
यहाँ मुंबई में इसी अर्थ में प्रयुक्त होता है

जिसकी अगली हरकतों का अंदाजा न लगे वह अतरंगी है

Madhusudan H Jhaveri

unread,
Jul 18, 2016, 9:43:49 AM7/18/16
to shabdc...@googlegroups.com
यह भी मुझे, मूल शब्दार्थ  का (जो गुजराती कोश में है)अर्थ विस्तार लगता है।
अर्थ विस्तार की प्रक्रिया भाषा में चलती रहती है।

मधुसूदन
Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages