आगे देखें - बहस : भ्रूण हत्या

0 views
Skip to first unread message

Hindi bhasha

unread,
Jul 20, 2008, 9:08:34 PM7/20/08
to Marwari Samaj
भारतीय समाज यह मानता है कि बेटे से नाम चलता है, बेटे ही पितरों का
उद्धार करने वाला होता है और बेटा ही कमाकर घर चलाने वाला तथा
वृद्धावस्था में देखभाल करने वाला है। लेकिन गहराई से जाँचने स ये सभी
धारणाएँ भ्रांत सिद्ध हो जाती है।
आगे देखें - बहस : भ्रूण हत्या
http://ehindisahitya.blogspot.com/
Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages