सात समुंदर पार बसा ब्रज

7 views
Skip to first unread message

Kripaluji Maharaj Satsangee

unread,
Apr 6, 2010, 11:18:14 AM4/6/10
to Jagadguru Shree Kripaluji Maharaj
http://in.jagran.yahoo.com/news/national/general/5_1_6108158.html

मथुरा। अगर आपको पता चले कि योगीराज श्री कृष्ण का एक और ब्रज है, वो भी
सात समुंदर पार तो शायद अजीब लगेगा। लेकिन बात बिल्कुल सच है। अमेरिका के
टैक्सास आस्टीन में बसा है एक ऐसा ब्रज जहा विराजमान हैं गोवर्धन गिरिराज
महाराज।

यही नहीं राधारानी और राधाकुंड सहित कई प्रमुख धार्मिक स्थल भी नजर आते
हैं। यह भले ही ये कान्हा का असली ब्रज न सही, लेकिन यहा के कण-कण में
मिश्रित असली ब्रज के अंश इसे असली से ज्यादा अहमियत दे रहे हैं। इस
अनोखे ब्रज को बसाया गया है एक मंदिर के विशालकाय दायरे में। भगवान
श्रीकृष्ण और राधा की भक्ति में विदेशी कृष्ण भक्त कितने रमते जा रहे
हैं, इसके आकलन का पैमाना मुश्किल होता जा रहा है। विदेशी कृष्ण भक्तों
को उनके ही देश में भगवान श्रीकृष्ण और राधा की तमाम रास लीला स्थलियों
का दर्शन कराने की दिशा में एक बड़ा प्रयास किया गया है। इससे प्रवासी
भारतीयों का सीना भी शान से फूल गया है। उनके लिए तो जैसे उनका देश और
संस्कृति ही चल कर पास आ गई हो। इस ब्रज को बनाया है प्रख्यात संत
जगतगुरू कृपालु महाराज ने।

अमेरिका के टैक्सास स्थित आस्टीन शहर के प्रमुख मंदिर गोविंद धाम में।
220 एकड़ क्षेत्र के परिसर में बनाए गये धार्मिक स्थलों में गोवर्धन
महाराज का विशालकाय पर्वत स्वरूप को स्थापित किया गया है। बताया गया है
कि गिरिराज पर्वत के बनाए गये स्वरूप में एक शिला गिरिराज महाराज की
शामिल है जो गोवर्धन से ले जाकर पर्वत में विराजमान की गई है।

गिरिराज महाराज का बाकायदा एक मंदिर भी वहा बनाया गया है। इसी तरह
गिरिराज महाराज की परिक्रमा में पड़ने वाले राधाकुंड और श्याम कुंड भी ठीक
उसी तरह बना गये हैं जैसे मथुरा जिला में स्थित राधाकुंड में मौजूद हैं।
इनकी भी खासियत है कि इन दोनों कुंड के जल यहा से लेकर आस्टीन में बने
राधाकुंड व श्याम कुंड के जल में मिश्रित किए गए हैं। इसके अलावा प्राचीन
गोविंद कुंड भी बनाया गया है। उसमें भी यहा का जल लेकर मिलाया गया है।
इसमें प्रेम सरोवर भी है। इसके अलावा पहाड़ियों के बीच बसा श्रीराधारानी
धाम बरसाना भी बनाया गया है। इसमें बरसाना की श्याम कुटी, मोरकुटी के साथ-
साथ यमुना महारानी यानी कालिंदी तट भी यहा श्रद्धालुओं के लिए दर्शनीय
है।

यह पर्वतीय स्थल पर बनाया गया यह अनोखा धार्मिक स्थल 400, बरसाना रोड पर
स्थित है। अपने आप में इस अनोखे धार्मिक स्थल के बारे में अभी तक मंदिर
प्रबंधन की और से इंटरनेट पर बहुत थोड़ी सी जानकारी दी गई हैं, लेकिन
आगामी समय में विदेश में बसे इस ब्रज की तस्वीरें जल्द ही इंटरनेट पर
दिखाई देने लगेंगी।

Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages