Urgent: Condemn the Arrest of young activist, Nitin of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan Burhanpur, Madhya Pradesh

1 view
Skip to first unread message

napm india

unread,
Aug 29, 2023, 12:22:54 PMAug 29
to


Condemn the Arrest of young activist, Nitin of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan Burhanpur, Madhya Pradesh

For Urgent Attn: Please see attached press notes in Hindi and English and photos 

 Nitin, an activist of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan was arrested today in Burhanpur in a clearly false case . Please see  attached press release  and photos . Jagrit Adivasi Dalit Sangathan has been campaigning for forest rights as well as protesting against State connivance in massive illegal forest felling in the area. As a  result, there has been a spate of repression against Sangathan members.   Hundreds of adivasis gathered in Burhanpur today to protest  that this arrest was an assault on them 

 Madhuri/ Antaram Awase

अति आवश्यक: वन अधिकार के  लिए और वन कटाई रोकने के लिए आंदोलन करने वाले जागृत आदिवासी दलित संगठन के कार्यकर्ता, नितिन  भाई  एक झूठे मामले में आज गिरफ्तार हुए हैं ।  संगठन के आंदोलन के कारण  मार्च के एक मामले में कई माह बाद उनका नाम जोड़ा गया , जिसका पता चलने पर उन्होने  बुरहानपुर कोर्ट के   समक्ष आत्मसमर्पण किया । इस  गिरफ्तारी का आदिवासियों ने  भरी विरोध किया और बोला यह हमारे समाज पर हमला है 

माधुरी / अंतराम अवासे
Phone : 9179753640  
jads.jpg
मध्य प्रदेश 
Press release 29.08.23 
Jagrit Adivasi Dalit Sangathan / जागृत आदिवासी दलित संगठन


Jagrit Adivasi Dalit Sangathan activist Nitin arrested in Burhanpur


In the continuing assault on Jagrit Adivasi Dalit Sangathan, on 28.08.23, Nitin, an activist of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan has been arrested after being implicated in a false case. This is the latest in a series of attacks by the Madhya Pradesh government against Jagrit Adivasi Dalit Sangathan over the past few months. The Sangathan, in addition to campaigning for Forest Rights has been protesting against state connivance in the massive deforestation in Burhanpur district.

On 2nd March, 35 Adivasis of Guarkheda (Baladi) village had been arrested following a fracas with forest department personnel, and Nitin’s name was added later even though he was not present during the incident. 4 Adivasis, including two women of Guarkheda (Baladi Panchayat), were forcefully taken away from their homes by forest personnel. People of the village attempted to find them and also informed Sangathan activists, including Nitin, of the incident. Nitin immediately contacted the DFO and District Collector, Burhanpur, seeking their intervention in the matter to ensure that due process of law was followed and no violence was committed against those picked up. The villagers were also informed about this conversation.

According to the villagers, when people reached the Burhanpur range office in search of the four picked up by the forest personnel, they heard screams from a locked room where it seemed like people were being beaten up. It is alleged that, following this, a clash between the villagers and the forest officials ensued, after which 35 Adivasis including 15 women were arrested by the police.

Recently we came to know that Burhanpur Police has made Nitin a co-accused in this case, and it is being alleged that Nitin incited the attack on the range office via the phone!  Upon surrendering before the Court, Nitin has been arrested today, and been remanded to police custody. Upon being summoned by the police to record his statement, Nitin had gone to Lalbagh PS twice in March, but both times the police had put it off on different pretexts. Ever since the Sangathan publicly protested the role of the administration in the massive deforestation in the area, its activists have been relentlessly targeted by the police and administration alike.

Due to the awareness generated by the activists of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan regarding the Forest Rights Act and other constitutional rights of Adivasis, the organization has been subject to malicious prosecution by the forest department. The most recent attacks of repression started against the organization when it publicly opposed the administrative collusion in deforestation of over 15000 acres of pristine forests. Organization activists Antram Awase and Dilip Sisodia were sent to jail, Adivasi activists were implicated in a plethora of false cases and Sangathan activist Madhuri was externed from the district!

Burhanpur has had a long history of atrocities against Adivasis, where the forest department has routinely picked up, illegally detained and beaten people over the years. The entire community can attest to the lakhs that have been extorted over decades by corrupt forest officials in exchange for allowing their forefathers to settle and cultivate in the area. Through Jagrit Adivasi Dalit Sangathan, Adivasis are raising their voice, demanding their forest rights and constitutional rights, and are firmly opposing atrocities being committed against them!

Since graduating from the reputed “Tata Institute of Social Sciences” (TISS), Nitin has been with Jagrit Adivasi Dalit Organization for the past 5 years and has played an active role in the organization's awareness campaign for legal forest rights.

Adivasis members of JADS reached Burhanpur in large numbers and protested Nitin’s arrest which they said was an attack on their non-violent struggle for legal and constitutional rights. Nitin Bhai has been falsely implicated. We are not going to be cowed down by such attacks, but will unite and continue to fight for our rights!

On behalf of JADS :

Antaram Awase, Ashabai Solanki , Nasribai Ningwal, Valsing Sastia



jads.jpg

प्रेस विज्ञप्ति 29.08.2023

प्रदेश सरकार द्वारा बुरहानपुर के जागरूक आदिवासियों और उनके आंदोलन पर यह सबसे ताज़ा हमला

आज जागृत आदिवासी दलित संगठन के कार्यकर्ता नितिन भाई को एक नाम झूठे मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है । मार्च में वन कर्मियों के साथ गुआरखेड़ा गाँव के आदिवासियों का झड़प हुआ था, नितिन भाई के वहाँ मौजूद नहीं होने के बावजूद, बाद में उनका नाम मामले में जोड़ा गया । मध्य प्रदेश सरकार द्वारा बुरहानपुर के जागरूक आदिवासियों और उनके आंदोलन पर यह सबसे ताज़ा हमला है!
मार्च के महीने में गुआरखेड़ा (बलड़ी पंचायत) के दो महिलाओं सहित 4 आदिवासियों को वन कर्मियों ने उनके घरों से जबरदस्ती मारते मारते ले गए । गाँव के कई महिला पुरुष उन्हें ढूँढने निकले और संगठन कार्यकर्ता नितिन भाई को भी खबर किए । नितिन भाई ने तुरंत डीएफओ और जिला कलेक्टर, बुरहानपुर से संपर्क किया और उनसे मामले में हस्तक्षेप कर कानून की उचित प्रक्रिया का पालन और आदिवासियों पर कोई हिंसा न हो, यह सुनिश्चित करने की मांग की। ग्रामीणों को भी इस बातचीत की जानकारी दी ।
ग्रामीणों के मुताबिक जब वन कर्मियों द्वारा उठाए गए लोगों को ढूंढते हुए कई लोग बुरहानपुर रेंज ऑफिस पहुंचे, उन्हें एक बंद कमरे के अंदर से उनके लोगों के दर्द से चीखने और मार पीट की आवाजें सुनाई दी । बताया जा रहा है कि इसके बाद कथित तौर पर ग्रामीणों और वनकर्मियों के बीच झड़प भी हुई । कुछ ही समय बाद, लगभग 20 पुरुषों और 15 महिलाओं को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था ।
हाल ही में हमें यह मालूम पड़ा कि बुरहानपुर पुलिस द्वारा इस मामले में नितिन भाई को सह-आरोपी बनाया गया है, और यह बेतुका आरोप लगाया जा रहा है कि नितिन भाई ने "फोन" से "रेंज ऑफिस पर हमला करवाया!" नितिन भाई ने कोर्ट के समक्ष आत्मसमर्पण किया और उन्हें लालबाग पुलिस रिमाण्ड पर ले गयी है।
पुलिस के बुलाने पर मार्च में नितिन भाई दो बार बयान देने लालबाग थाना गए थे, पर दोनों बार बिना बयान लिए पुलिस ने उन्हें लौटा दिया था । बाद में जब संगठन ने क्षेत्र में व्यापक वन कटाई में प्रशासन की भूमिका का सार्वजनिक विरोध किया, संगठन के कार्यकर्ताओं पर लगातार पुलिस - प्रशासन की कार्यवाही होने लगी ।
जागृत आदिवासी दलित संगठन द्वारा वन अधिकार कानून और उसके तहत आदिवासियों के अधिकारों के प्रचार अभियान से आई जागरूकता के कारण वन अमले के गैर कानूनी हिंसा, पर काफी अंकुश लगने से वन विभाग में संगठन के खिलाफ काफी द्वेष रहा है । जिस पर संगठन द्वारा हाल ही में 15000 एकड़ पर वन कटाई में प्रशासनिक मिलीभगत का विरोध करने पर कार्यकर्ताओं पर दमन का दौर शुरू हुआ । संगठन कार्यकर्ता अंतराम अवासे और दिलीप सिसोदिया को जेल भेजा गया, कई मामलों में कार्यकर्ताओं को फसाया गया और माधुरी बेन को बुरहानपुर से जिला बदर किया गया !
बुरहानपुर में क्षेत्र के आदिवासियों के प्रति हिंसा का एक लंबा इतिहास है, जहां वन विभाग ने वर्षों से नियमित रूप से लोगों को उठाया है, अवैध रूप से हिरासत में लिया गया है और पीटा है, साथ ही लाखों की जबरन वसूली भी की है। जागृत आदिवासी दलित संगठन के नेतृत्व में आदिवासी अपने वन अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों के लिये और लगातार हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज़ उठा रहे है। साथ में अवैध वन कटाई के खिलाफ सबसे सशक्त आवाज़ भी इन्ही का रहा है ।
प्रसिद्ध “टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइन्सस” (TISS) के स्नातक, नितिन भाई, पिछले 5 वर्षों से जागृत आदिवासी दलित संगठन के साथ हैं और संगठन के कानूनी वन अधिकारों के लिए किए गए जागरूकता अभियान में सक्रिय भूमिका निभाए हैं । संगठन के सदस्यों ने नितिन भाई की गिरफ्तारी का तीखा विरोध करते हुए कहा कि यह हमारे कानूनी और संवैधानिक अधिकारों के लिए अहिंसक संघर्ष पर हमला है। नितिन भाई को झूठे मामले में फसाया गया है । हम ऐसे हमलों से दबने वाले नहीं हैं , बल्कि और बुलंदी से एकजुट हो कर अपने हकों के लिए लड़ेंगे !
जागृत आदिवासी दलित संगठन के ओर से :
अंतराम अवासे, आशा बाई, नासरी बाई निंगवाल, वालसिंग ससतिया

--
===============================================
National Alliance of People’s Movements
National Office:  A/29, Haji Habib Bldg., Naigaon Cross Road, Dadar (E), Mumbai – 400014
Twitter and Instagram: @napmindia
protest.pdf
protest 2.pdf
nitin 2.pdf
जागृत आदिवासी दलित संगठन के नितिन भाई गिरफ्तार.pdf
Nitin, activist of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan arrested in Burhanpur.pdf

napm...@gmail.com

unread,
Aug 29, 2023, 11:21:59 PMAug 29
to Dalits Media Watch
Condemn the Arrest of young activist, Nitin of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan Burhanpur, Madhya Pradesh

For Urgent Attn: Please see attached press notes in Hindi and English and photos 

 Nitin, an activist of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan was arrested today in Burhanpur in a clearly false case . Please see  attached press release  and photos . Jagrit Adivasi Dalit Sangathan has been campaigning for forest rights as well as protesting against State connivance in massive illegal forest felling in the area. As a  result, there has been a spate of repression against Sangathan members.   Hundreds of adivasis gathered in Burhanpur today to protest  that this arrest was an assault on them 

 Madhuri/ Antaram Awase

अति आवश्यक: वन अधिकार के  लिए और वन कटाई रोकने के लिए आंदोलन करने वाले जागृत आदिवासी दलित संगठन के कार्यकर्ता, नितिन  भाई  एक झूठे मामले में आज गिरफ्तार हुए हैं ।  संगठन के आंदोलन के कारण  मार्च के एक मामले में कई माह बाद उनका नाम जोड़ा गया , जिसका पता चलने पर उन्होने  बुरहानपुर कोर्ट के   समक्ष आत्मसमर्पण किया । इस  गिरफ्तारी का आदिवासियों ने  भरी विरोध किया और बोला यह हमारे समाज पर हमला है 

माधुरी / अंतराम अवासे
Phone : 9179753640  
jads.jpg
मध्य प्रदेश 
Press release 29.08.23 
Jagrit Adivasi Dalit Sangathan / जागृत आदिवासी दलित संगठन


Jagrit Adivasi Dalit Sangathan activist Nitin arrested in Burhanpur


In the continuing assault on Jagrit Adivasi Dalit Sangathan, on 28.08.23, Nitin, an activist of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan has been arrested after being implicated in a false case. This is the latest in a series of attacks by the Madhya Pradesh government against Jagrit Adivasi Dalit Sangathan over the past few months. The Sangathan, in addition to campaigning for Forest Rights has been protesting against state connivance in the massive deforestation in Burhanpur district.

On 2nd March, 35 Adivasis of Guarkheda (Baladi) village had been arrested following a fracas with forest department personnel, and Nitin’s name was added later even though he was not present during the incident. 4 Adivasis, including two women of Guarkheda (Baladi Panchayat), were forcefully taken away from their homes by forest personnel. People of the village attempted to find them and also informed Sangathan activists, including Nitin, of the incident. Nitin immediately contacted the DFO and District Collector, Burhanpur, seeking their intervention in the matter to ensure that due process of law was followed and no violence was committed against those picked up. The villagers were also informed about this conversation.

According to the villagers, when people reached the Burhanpur range office in search of the four picked up by the forest personnel, they heard screams from a locked room where it seemed like people were being beaten up. It is alleged that, following this, a clash between the villagers and the forest officials ensued, after which 35 Adivasis including 15 women were arrested by the police.

Recently we came to know that Burhanpur Police has made Nitin a co-accused in this case, and it is being alleged that Nitin incited the attack on the range office via the phone!  Upon surrendering before the Court, Nitin has been arrested today, and been remanded to police custody. Upon being summoned by the police to record his statement, Nitin had gone to Lalbagh PS twice in March, but both times the police had put it off on different pretexts. Ever since the Sangathan publicly protested the role of the administration in the massive deforestation in the area, its activists have been relentlessly targeted by the police and administration alike.

Due to the awareness generated by the activists of Jagrit Adivasi Dalit Sangathan regarding the Forest Rights Act and other constitutional rights of Adivasis, the organization has been subject to malicious prosecution by the forest department. The most recent attacks of repression started against the organization when it publicly opposed the administrative collusion in deforestation of over 15000 acres of pristine forests. Organization activists Antram Awase and Dilip Sisodia were sent to jail, Adivasi activists were implicated in a plethora of false cases and Sangathan activist Madhuri was externed from the district!

Burhanpur has had a long history of atrocities against Adivasis, where the forest department has routinely picked up, illegally detained and beaten people over the years. The entire community can attest to the lakhs that have been extorted over decades by corrupt forest officials in exchange for allowing their forefathers to settle and cultivate in the area. Through Jagrit Adivasi Dalit Sangathan, Adivasis are raising their voice, demanding their forest rights and constitutional rights, and are firmly opposing atrocities being committed against them!

Since graduating from the reputed “Tata Institute of Social Sciences” (TISS), Nitin has been with Jagrit Adivasi Dalit Organization for the past 5 years and has played an active role in the organization's awareness campaign for legal forest rights.

Adivasis members of JADS reached Burhanpur in large numbers and protested Nitin’s arrest which they said was an attack on their non-violent struggle for legal and constitutional rights. Nitin Bhai has been falsely implicated. We are not going to be cowed down by such attacks, but will unite and continue to fight for our rights!

On behalf of JADS :

Antaram Awase, Ashabai Solanki , Nasribai Ningwal, Valsing Sastia



jads.jpg

प्रेस विज्ञप्ति 29.08.2023

प्रदेश सरकार द्वारा बुरहानपुर के जागरूक आदिवासियों और उनके आंदोलन पर यह सबसे ताज़ा हमला

आज जागृत आदिवासी दलित संगठन के कार्यकर्ता नितिन भाई को एक नाम झूठे मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है । मार्च में वन कर्मियों के साथ गुआरखेड़ा गाँव के आदिवासियों का झड़प हुआ था, नितिन भाई के वहाँ मौजूद नहीं होने के बावजूद, बाद में उनका नाम मामले में जोड़ा गया । मध्य प्रदेश सरकार द्वारा बुरहानपुर के जागरूक आदिवासियों और उनके आंदोलन पर यह सबसे ताज़ा हमला है!
मार्च के महीने में गुआरखेड़ा (बलड़ी पंचायत) के दो महिलाओं सहित 4 आदिवासियों को वन कर्मियों ने उनके घरों से जबरदस्ती मारते मारते ले गए । गाँव के कई महिला पुरुष उन्हें ढूँढने निकले और संगठन कार्यकर्ता नितिन भाई को भी खबर किए । नितिन भाई ने तुरंत डीएफओ और जिला कलेक्टर, बुरहानपुर से संपर्क किया और उनसे मामले में हस्तक्षेप कर कानून की उचित प्रक्रिया का पालन और आदिवासियों पर कोई हिंसा न हो, यह सुनिश्चित करने की मांग की। ग्रामीणों को भी इस बातचीत की जानकारी दी ।
ग्रामीणों के मुताबिक जब वन कर्मियों द्वारा उठाए गए लोगों को ढूंढते हुए कई लोग बुरहानपुर रेंज ऑफिस पहुंचे, उन्हें एक बंद कमरे के अंदर से उनके लोगों के दर्द से चीखने और मार पीट की आवाजें सुनाई दी । बताया जा रहा है कि इसके बाद कथित तौर पर ग्रामीणों और वनकर्मियों के बीच झड़प भी हुई । कुछ ही समय बाद, लगभग 20 पुरुषों और 15 महिलाओं को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था ।
हाल ही में हमें यह मालूम पड़ा कि बुरहानपुर पुलिस द्वारा इस मामले में नितिन भाई को सह-आरोपी बनाया गया है, और यह बेतुका आरोप लगाया जा रहा है कि नितिन भाई ने "फोन" से "रेंज ऑफिस पर हमला करवाया!" नितिन भाई ने कोर्ट के समक्ष आत्मसमर्पण किया और उन्हें लालबाग पुलिस रिमाण्ड पर ले गयी है।
पुलिस के बुलाने पर मार्च में नितिन भाई दो बार बयान देने लालबाग थाना गए थे, पर दोनों बार बिना बयान लिए पुलिस ने उन्हें लौटा दिया था । बाद में जब संगठन ने क्षेत्र में व्यापक वन कटाई में प्रशासन की भूमिका का सार्वजनिक विरोध किया, संगठन के कार्यकर्ताओं पर लगातार पुलिस - प्रशासन की कार्यवाही होने लगी ।
जागृत आदिवासी दलित संगठन द्वारा वन अधिकार कानून और उसके तहत आदिवासियों के अधिकारों के प्रचार अभियान से आई जागरूकता के कारण वन अमले के गैर कानूनी हिंसा, पर काफी अंकुश लगने से वन विभाग में संगठन के खिलाफ काफी द्वेष रहा है । जिस पर संगठन द्वारा हाल ही में 15000 एकड़ पर वन कटाई में प्रशासनिक मिलीभगत का विरोध करने पर कार्यकर्ताओं पर दमन का दौर शुरू हुआ । संगठन कार्यकर्ता अंतराम अवासे और दिलीप सिसोदिया को जेल भेजा गया, कई मामलों में कार्यकर्ताओं को फसाया गया और माधुरी बेन को बुरहानपुर से जिला बदर किया गया !
बुरहानपुर में क्षेत्र के आदिवासियों के प्रति हिंसा का एक लंबा इतिहास है, जहां वन विभाग ने वर्षों से नियमित रूप से लोगों को उठाया है, अवैध रूप से हिरासत में लिया गया है और पीटा है, साथ ही लाखों की जबरन वसूली भी की है। जागृत आदिवासी दलित संगठन के नेतृत्व में आदिवासी अपने वन अधिकारों और संवैधानिक अधिकारों के लिये और लगातार हो रहे अत्याचार के खिलाफ आवाज़ उठा रहे है। साथ में अवैध वन कटाई के खिलाफ सबसे सशक्त आवाज़ भी इन्ही का रहा है ।
प्रसिद्ध “टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइन्सस” (TISS) के स्नातक, नितिन भाई, पिछले 5 वर्षों से जागृत आदिवासी दलित संगठन के साथ हैं और संगठन के कानूनी वन अधिकारों के लिए किए गए जागरूकता अभियान में सक्रिय भूमिका निभाए हैं । संगठन के सदस्यों ने नितिन भाई की गिरफ्तारी का तीखा विरोध करते हुए कहा कि यह हमारे कानूनी और संवैधानिक अधिकारों के लिए अहिंसक संघर्ष पर हमला है। नितिन भाई को झूठे मामले में फसाया गया है । हम ऐसे हमलों से दबने वाले नहीं हैं , बल्कि और बुलंदी से एकजुट हो कर अपने हकों के लिए लड़ेंगे !
जागृत आदिवासी दलित संगठन के ओर से :
अंतराम अवासे, आशा बाई, नासरी बाई निंगवाल, वालसिंग ससतिया


--
===============================================
National Alliance of People’s Movements
National Office:  A/29, Haji Habib Bldg., Naigaon Cross Road, Dadar (E), Mumbai – 400014
Twitter and Instagram: @napmindia
Footer

You are receiving this message because you are a member of the community Dalits Media Watch.

View this contribution on the web site

A reply to this message will be sent to all members of Dalits Media Watch.

Reply to all community members | Unsubscribe

Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages