हिन्दी वर्णक्रम

299 views
Skip to first unread message

Hariram

unread,
May 10, 2007, 7:22:30 AM5/10/07
to hi...@googlegroups.com, chit...@googlegroups.com
क्या कोई बता सकता है, कि हिन्दी शब्दकोशों में चन्द्रबिन्दु, अनुस्वार और विसर्ग युक्त शब्द पहले क्यों आते है? जबकि देवनागरी वर्णमाला में सबसे अ,आ... ओ,औ के बाद ही अं और अः आते हैं।
 
सन्दर्भ :
इन्हें vowel modifier माना गया है।
 
अर्थात्
 
बारहखड़ी में चन्द्रबिन्दु, अनुस्वार और विसर्ग किसी भी व्यंजन+स्वर+(vowel Modifier) लग सकते हैं।
क का कि की कु कू कृ के कै को कौ
कँ काँ किँ कीँ कुँ कूँ कृँ केँ कैँ कोँ कौँ
कं कां किं कीं कुं कूं कृं कें कैं कों कौं
कः काः किः कीः कुः कूः कृः केः कैः कोः कौः
 
अतः अवैज्ञानिक तथा तर्कहीन आधार होने के कारण देवनागरी में कम्प्यूटर का default alphabetical sorting order गड़बड़ा जाता है।
 
शब्दकोशों में अँ, अं, अः युक्त शब्दों को पहले लगाने का क्या तुक है? क्या कारण रहा है इसके पीछे?
 
यदि कोई विद्वान इसका तर्कसम्मत उत्तर दे तो आभारी रहूँगा।
 
हरिराम

मथुरा कलौनी

unread,
May 10, 2007, 10:14:05 AM5/10/07
to hi...@googlegroups.com
जहॉं तक मेरी जानकारी है प्रथम मानक कोश
' हि‍न्‍दी शब्‍दसागर' का नि‍मार्ण नागरीप्रचारि‍णी सभा काशी ने कि‍या था। शायद तभी से यह क्रम चला आ रहा है। ' हि‍न्‍दी शब्‍दसागर' का नि‍मार्ण में आचार्य शुक्‍ल आदि‍ का योगदान रहा है। कि‍स तर्क के अनुसार क्रम ‍निश्‍चि‍त कि‍या गया है यह सभा के कार्यालय से मालूम हो सकता है।
मथुरा कलौनी

Narayan Prasad

unread,
May 10, 2007, 10:42:28 AM5/10/07
to hi...@googlegroups.com, Hindi...@yahoogroups.com

हरिराम जी,

   प्रतीत होता है कि यही प्रश्न आपने पहले भी किया था जिसका उत्तर भी मैंने दे दिया था ।

 

  मेरे विचार में ठीक-ठीक वर्णक्रम इस प्रकार है -

 

   अ अँ अं अः आ आँ आं आः ....... औ औँ औं औः क कँ कं कः ....कौ कौँ कौं कौः  क् (अर्थात् यहाँ से ककार का युक्ताक्षर चालू होना चाहिए), ख खँ खं खः ..... ह हँ हं हः ह्

 

   शंकर को शङ्कर, चंचल को चञ्चल, खंड को खण्ड, मंद को मन्द, कंपन को कम्पन के रूप में वर्णक्रम में रखना चाहिए, चाहे अनुस्वार रूप में भी क्यों न हो । डॉ० किट्टेल ने एक शताब्दी से भी पहले १८९४ में कन्नड सब्दकोश में इसी क्रम में शब्दों को रखा था । परन्तु, आजकल के विद्वानों ने कन्नड निघण्टु (८ खण्डों में, अन्तिम खण्ड १९९५ में प्रकाशित) में उपर्युक्त वैज्ञानिक क्रम को ताक पर रखकर शब्दों को अशुद्ध वर्णक्रम में रख दिया ।

 

  --- नारायण प्रसाद

 



No virus found in this outgoing message.
Checked by AVG Free Edition.
Version: 7.5.463 / Virus Database: 269.6.6/794 - Release Date: 5/8/2007 2:23 PM

Hariram

unread,
May 11, 2007, 4:22:22 AM5/11/07
to hi...@googlegroups.com
नारायण प्रसाद जी एवं मथुरा कलौनी जी,
 
आपने बिल्कुल सही क्रम बताया है, जो वैज्ञानिक आधार पर तथा व्यावहारिक है।
 
किन्तु प्रचलित हिन्दी शब्दकोशों के अनुसार  देवनागरी युनिकोड में भी चन्द्रबिन्दु, अनुस्वार और विसर्ग को सबसे पहले रखा दिया गया है।

जबकि केवल चन्द्रबिन्दु, अनुस्वार या विसर्ग का प्रयोग कहीं नहीं हो सकता  तथा किसी शब्द के पहले भी इनका प्रयोग कदापि नहीं हो सकता। किसी वर्ण के बाद में ही हो सकता है।
 
ISCII तथा UNICODE दोनों कूटों में इस गलत क्रम निर्धारण के कारण कम्प्यूटर का
 
sytem default sorting order इसके कारण गलत हो जाता है, विशेषकर हिन्दी डैटाबस प्रबन्धन में।
 
जहाँ शब्द के बीच में ये लगते हैं, वहाँ इनसे युक्त शब्द पहले आ जाता है किन्तु शब्द के अन्त में ये आते हैं तो स्वतः इनसे युक्त शब्द बाद में चला जाता है।
 
जैसे --
कहा - पहले आ जाता है।
कहाँ - बाद में चला जाता है।
 
जबकि
कंठ - पहले आता है।
कठ - बाद में जला जाता है। 
 
देवनागरी डैटाबेस की इन समस्याओं के कारण मजबूरन कहें या अन्य तकनीकी कारणों से कहें Rly Reservation system, Census, Share Markiet इत्यादि इत्यादि सारे डैटाबेस अंग्रेजी में ही फीड एवं प्रोसेस करने पड़ते हैं।
 
default sorting order में इन गड़बड़ियों को ठीक करने का क्या उपाय है? क्या इस बारे में कोई कम्प्यूटर तकनीकी विद्वान कोई समाधान देने हेतु ध्यान देंगे???
 
हरिराम
 
 
====
 
द्वारा: "Narayan Prasad"

मथुरा कलौनी

unread,
May 20, 2007, 2:07:05 AM5/20/07
to hi...@googlegroups.com

हरिराम जी
 
आपको यहॉं से शायद कुछ मदद मि‍ल सके।
 
 
मथुरा कलौनी
 
Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages