निरंतर : मार्च 2005 का पहला अंक

0 views
Skip to first unread message

Debashish

unread,
Feb 29, 2008, 11:06:18 PM2/29/08
to chit...@googlegroups.com
आपको स्मरण होगा कि निरंतर http://www.nirantar.org के पुराने अंक हमारे पूर्व सर्वर से नष्ट हो गये थे। इन अंकों का हमारे पास बैकअप नहीं था। अंक 7 से हम नये सर्वर और जूमला प्रकाशन प्रणाली पर स्थानांतरित हो गये थे। निरंतर दल अब आहिस्ता आहिस्ता पुराने अंकों को फिर निर्मित करने का प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में पेश है हमारा मार्च 2005 का पहला अंक, फिलहाल इसे मुखपृष्ठ पर उपलब्ध कराया गया है। यह सामग्री पुरानी है, तीन साल पुरानी। ज़ाहिर है, कई कड़ियाँ टूटी होंगी पर हमें विश्वास है कुछ न कुछ आपकी पसंद का ज़रूर होगा। उस समय हमें ईस्वामी और अनुनाद जैसे कुछ ही पारखी पाठक मिले थे जिन्होंने टिप्पणी की थी। पंकज नरूला, जीतू, अतुल अरोरा, अनूप, ईस्वामी जैसे अनेकों का हाथ इसमें रहा है, मुझे यकीन है कि सामुदायिक पहलू आपकी नज़र से नहीं बचेगा।

आपकी खास तव्वजोह चाहुंगा दीना मेहता के लेख, वेबलॉग नीतिशास्त्र लेखों पर जो शायद आज भी प्रासंगिक हैं। मिक्स मसाला में उस समय के भारतीय चिट्ठाजगत के आंकड़ें देख कर भी हैरत कीजियेगा।

Debashish

--
For information about me and other links visit my homepage at http://www.debashish.com.

bhuvnesh sharma

unread,
Feb 29, 2008, 11:11:26 PM2/29/08
to Chit...@googlegroups.com
धन्‍यवाद, निरंतर की निरंतरता बनाये


--
भुवनेश शर्मा
bhuvnesh sharma
http://www.hindipanna.blogspot.com/

अविनाश वाचस्पति

unread,
Feb 29, 2008, 11:27:44 PM2/29/08
to Chit...@googlegroups.com

Shrish Sharma

unread,
Mar 16, 2008, 10:37:30 AM3/16/08
to Chit...@googlegroups.com
Wow! We were waiting for it for a long time. Thanks!

Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages