tour

0 views
Skip to first unread message

Hariram

unread,
Jul 19, 2007, 8:26:17 AM7/19/07
to Chit...@googlegroups.com
Main tour par hun. Internet Cafe se type kar raha hun. Jahan Hindi install nahin hai. Atah angrejee main likhane ko majboor hun.
 
I will be in Varanasi on 22.07.2007. In Gorakphpur upto 21.07.07 night.
 
Yadi koi bandhu milana chahe to sampark kar sakata hai.
09437076452
 
Hariram
 
 

Shastri JC Philip

unread,
Jul 18, 2007, 8:37:01 PM7/18/07
to Chit...@googlegroups.com
कृपया ध्यान दें कि
 
 
नामक लेख में पर एक पट है जहां आप आराम से
हिन्दी में लिख सकते है. किसी भी साफ्टवेयर की
जरूरत नहीं है. इसे काट चिपका कर अपना
काम कर सकते हैं
 

विनीत
 
शास्त्री जे सी फिलिप
 
हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info

Debashish

unread,
Jul 20, 2007, 10:19:32 AM7/20/07
to Chithakar
शास्त्री जी, आप किस वर्डप्रेस प्लगिन का इस्तेमाल कर रहे हैं अगर सब को
बता सकें तो अन्य चिट्ठों पर भी ये संभव हो सकेगा।

On Jul 18, 8:37 pm, Shastri JC Philip <shastri.jcphi...@gmail.com>
wrote:

Vinod Mishra

unread,
Jul 20, 2007, 10:34:00 AM7/20/07
to Chit...@googlegroups.com
Shayad ye wala hai.
http://www.monusoft.com/Products/WordPressPlugin/tabid/187/Default.aspx
--
विनोद मिश्रा
Vinod Mishra
भगवान के अस्तित्व पर मुझे कोई शक नहि लेकिन मै उसे कुदरत का नाम देता हु ।
I believe in God, only I spell it Nature
http://www.vinodmishra.com

Vinod Mishra

unread,
Jul 20, 2007, 10:39:15 AM7/20/07
to Chit...@googlegroups.com
wo wala nahi hai :) ye hai http://hindi.kushinara.com/
More info at  http://hindi.kushinara.com/api.html

Shastri JC Philip

unread,
Jul 19, 2007, 10:39:10 PM7/19/07
to Chit...@googlegroups.com
प्रिय देबाशिष,
 
यह प्लगिन नहीं है बल्कि जावास्क्रिप्ट का एक तंत्रांश है जो
 
 
पर हरेक के लिये उपलब्ध है. इसकी कडी सारथी पर
दी गई है जिससे कि हर कोई उसके बारें में जान
सके. इसका उपयोग वही कर सकता है जो अपने
चिट्ठे की संरचना के बारे में थोडाबहुत जानता हो.
इसे कोई एक प्लगिन के रूप में ढाल सके तो सोने
में सुहागा हो जायगा.
 
 -- शास्त्री जे सी फिलिप

Jagdish Bhatia

unread,
Jul 20, 2007, 11:32:32 AM7/20/07
to Chit...@googlegroups.com
शास्त्री जी,
 
 बताने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।
 
इस टूल को अब हिंदी टूलबार में जोड़ दिया गया है अब अगर किसी भी साईट पर जा कर हिंदी लिखना चाहते हैं तो बस इस टूलबार पर कुशिनारा के बटन पर क्लिक करें और हिंदी लिखना शुरू कर दें।
 
टूलबार को यहां से डाऊनलोड कर सकते हैं।
 
 
जगदीश भाटिया

Shrish Sharma

unread,
Jul 20, 2007, 12:12:14 PM7/20/07
to Chit...@googlegroups.com
अरे भाई कोई इस तंत्राश के डैवलपर हमारे चिट्ठाकार साथी हिमांशु सिंह को भी धन्यवाद दो जी। :)
 
यह तंत्राश पिछले काफी समय से उपलब्ध है। पहले यह सिर्फ इंटरनैट एक्सप्लोरर पर ही चलता था लेकिन अब सभी ब्राउजरों पर चलता है। हाँ अभी इसमें कुछ बग्स हैं, जिस बारे हिमांशु जी को सूचित करूँगा। आगे हिमांशु जी से अनुरोध है कि इसे एक प्रॉक्सी के रुप में उपलब्ध करवाएँ।
 
If u can't beat them, join them.

ePandit: http://epandit.blogspot.com/
Shrish's Home: http://shrish.wordpress.com/

Shastri JC Philip

unread,
Jul 19, 2007, 11:51:30 PM7/19/07
to Chit...@googlegroups.com
जगदीश जी,
 
कमाल कर दिया आप ने! इससे बहुतों को फायदा होगा.
 
 -- शास्त्री जे सी फिलिप
 
हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info
 
 
 
शास्त्री जी,
 

Shastri JC Philip

unread,
Jul 20, 2007, 12:26:22 AM7/20/07
to Chit...@googlegroups.com
 
हिमांशु सिंह ने इस तंत्रांश को बना कर इसे हिन्दीजगत को
जो समर्पित किया उसके लिये उनका अभिनन्दन !!
Reply all
Reply to author
Forward
0 new messages