EK Samuhik vichar

0 बार देखा गया
नहीं पढ़े गए पहले मैसेज पर जाएं

divyabh aryan

नहीं पढ़ी गई,
26 दिस॰ 2006, 10:43:15 am26/12/06
ईमेल पाने वाला Chit...@googlegroups.com

चिठ्ठाकार समूह को Divyabh का नमस्कार,
my blog--www.divine-india.blogspot.com  ,

देवाशिश जी ने निवेदन किया था कि मैं अपनी प्रत्येक कृति
के बारे में समूह को सुचित न करुँ.किंतु मैं  मेरी तरह के
नये ब्लागर की परेशानियों की तरफ ध्यान इंगित कराना चाहुँगा---
  •   अगर कोई मित्र न हो तो कैसे अपनी कृतियों को और लोगों तक पहुँचाया जाये.
  •   वेबरिंग एक प्रकार से नये ब्लागर के लिये पूर्णतः निष्क्रिय है.
  •   tecnorati का भी यही हाल है.
  •   एक प्रकार से hindi blogger की विस्तार क्षमता अत्यंत सीमित है.
  •   अगर हम कोई नई कृति publish करते हैं और सीमित मित्रों के कारण आपका
      मनोबल बढाने बाला कोई नहीं होता और कुछ दिनों के बाद ब्लागर निष्क्रिय व उदास
      हो जाता है.
  •   इसकारण कुछ तो ऐसा हो कि प्रारंभ में लाभ दिया जा सके.
  •   यह group काफी बडा है और hindi को दूर तलक ले जाने के लिये एक अलग प्रयास होना चाहिए.
  •   कुछ तो नये लोगों के लिये सोंचा जाना चाहिए.
                                           
                                                                       धन्यवाद

Amit

नहीं पढ़ी गई,
26 दिस॰ 2006, 10:58:43 am26/12/06
ईमेल पाने वाला Chit...@googlegroups.com

--- divyabh aryan <divyab...@gmail.com> wrote:

> देवाशिश जी ने
> निवेदन किया था कि
> मैं अपनी प्रत्येक
> कृति
> के बारे में समूह को
> सुचित न करुँ.

भईये, उन्होंने
बिलकुल जायज़ बात कही
है।

> - अगर कोई मित्र न


> हो तो कैसे अपनी
> कृतियों को और लोगों
> तक पहुँचाया
> जाये.

.....
> - अगर हम कोई नई


> कृति publish करते हैं और
> सीमित मित्रों के
> कारण आपका
> मनोबल बढाने बाला
> कोई नहीं होता और कुछ
> दिनों के बाद ब्लागर
> निष्क्रिय
> व उदास
> हो जाता है.

> - इसकारण कुछ तो ऐसा


> हो कि प्रारंभ में
> लाभ दिया जा सके.

> - यह group काफी बडा है


> और hindi को दूर तलक ले
> जाने के लिये एक अलग
> प्रयास होना चाहिए.

> - कुछ तो नये लोगों


> के लिये सोंचा जाना
> चाहिए.

आपने अपना पक्ष तो कह
दिया। अब यह भी समझने
का प्रयास करें कि इस
समूह के जितने लोग
हैं सभी के पास ईमेल
जाती है। यदि आप और
आपकी तरह नए ब्लॉगर
बन्धु अपनी अपनी नई
पोस्टों के बारे में
ऐसे समूह को बताते
रहेंगे तो बहुत बड़ी
समस्या हो जाएगी, कई
लोगों के इनबॉक्स इन
ईमेलों से भर जाएँगे,
ऐसी ईमेल जिनको
कदाचित वह पढ़ना नहीं
चाहते। यानि एक के
कारण कई लोगों को
समस्या। अब आप अपने
को ऐसे किसी व्यक्ति
की जगह रख के सोचने का
प्रयास करें।

रही आपकी समस्या की
बात तो ऐसी समस्याओं
के समाधान के तौर पर
ही "नारद" की स्थापना
हुई थी।
http://narad.akshargram.com/

"नारद" पर फ़िलहाल नए
चिट्ठों का पंजीकरण
बन्द है। थोड़ा सब्र
रखें, जल्द ही यह पुनः
खुल जाएगा और आपकी नई
पोस्टों की खबर सभी
को बड़ी सहूलियत से हो
जाया करेगी। :)


cheers
Amit

|| http://blog.igeek.info/ || http://www.diGitBlog.com/ ||
|| http://www.amitgupta.in/ || http://eye.amitgupta.in/ ||
|| http://blog.igeek.info/wp-plugins/igsyntax-hiliter/ ||

__________________________________________________
Do You Yahoo!?
Tired of spam? Yahoo! Mail has the best spam protection around
http://mail.yahoo.com

Tarun

नहीं पढ़ी गई,
27 दिस॰ 2006, 11:13:36 am27/12/06
ईमेल पाने वाला Chithakar
Do you understand meaning of 'Is haath de us Haath le'. If not let me
explain you, Go and visit more blogs leave comments on their blogs and
they will at least visit you once. Do it regularly and after sometime
you will not feel that way. But for that do quality writing.

Hope it will help, and this is for all those who always wanted to
inform about their post thru this e-mail messages.

Sorry for not writing in hindi as it's from work ;)

सागर चन्द नाहर

नहीं पढ़ी गई,
31 दिस॰ 2006, 5:57:43 am31/12/06
ईमेल पाने वाला Chithakar

"नारद" पर फ़िलहाल नए
चिट्ठों का पंजीकरण
बन्द है। थोड़ा सब्र
रखें, जल्द ही यह पुनः
खुल जाएगा और आपकी नई
पोस्टों की खबर सभी
को बड़ी सहूलियत से हो
जाया करेगी। :)

तब तक हिन्दी ब्लोगस को आप
अपने लेखन की सूचना दे सकते
हैं, यह रही उसकी लिंक
www.hindibloges.com

Pratik Pandey

नहीं पढ़ी गई,
31 दिस॰ 2006, 6:23:50 am31/12/06
ईमेल पाने वाला Chithakar
हिन्दीब्लॉग्स.कॉम की कड़ी कुछ ग़लत हो गई है, सही यह है - www.HindiBlogs.com
 
प्रतीक

 
सभी को जवाब दें
लेखक को जवाब दें
फ़ॉरवर्ड करें
0 नया मैसेज